Followers

Sunday, 6 April 2014

''आ गयी नवरात्रि मैय्या मेरे घर आना ''



 ''आ गयी नवरात्रि मैय्या मेरे घर आना ''
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
..................................................................
देवी मंडप में पहले दिन जो पूजी जाती माता ,
शैलपुत्री नाम है उनका पर्यावरण की वे त्राता ,
शिव संग इन्हें पूजकर हिमपुत्री दर्शन पाना !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
.........................................................
दिवस दूसरे ब्रह्मचारिणी का  करते हैं पूजन ,
सृष्टि की निर्मात्री माँ आदि-शक्ति पावन ,
शिशु-जन्म की नींव पड़ी माता का गौरव जाना !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
...........................................................
तीसरे दिन ''चंद्रघंटा '' का करते हैं आराधन ,
दसों भुजाओं वाली माता सिंह है इनका वाहन ,
माँ घंटे की ध्वनि से प्रेतों को दूर भगाना !
 धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
.............................................................
''कूष्माण्डा'' माँ की पूजा चौथे दिन हैं करते ,
इनके 'ईशत हास्य' से अन्धकार सब हरते ,
सभी में स्थित तेज है जो मेरी माता की है छाया !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
.............................................................................
दिवस पांचवे जिन देवी को घर-घर पूजा जाता ,
तारकासुर- नाशक  स्कन्द की हैं माता ,
माँ-बेटे के पावन स्नेह का सृष्टि गाती गाना !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
....................................................
'कात्यायनी'' माँ का होता छठे दिवस फिर पूजन ,
तृष्णा व् तुष्टि की शक्ति देती सन्देश ये पावन ,
वश में कर लेता इंद्री मन को पुत्री जब माना !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
.............................................................
सप्तम दिवस माँ कालरात्रि का करते सब हैं पूजन ,
दुष्ट-विनाशक ,शुभंकरी माँ कहलाती भय-भंजन ,
सिद्धि के सब द्वार मात अब जल्दी से खुलवाना !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
.................................................................
अष्टमी के दिन होता माँ गौरी का  आराधन ,
श्वेत -वृष आरूढ़ हैं माता गृहस्थों का करती मंगल ,
चंडी, दुर्गा तेरे बल का लोहा सब ने माना !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !
................................................................
नवम तिथि को सिद्धिदात्री माँ को पूजा जाता ,
पृथक नहीं सृष्टि में कुछ भी सब मात में आ समाता ,
अर्थ की देवी भंडारे भक्तों के भरती  जाना !
धर कर रूप कन्या का मैय्या दर्शन दे जाना !

शिखा कौशिक 'नूतन' 

2 comments:

Shalini Kaushik said...

bahut sundar aadhyatmik abhivyakti .badhai

Shalini Kaushik said...

bahut sundar aadhyatmik prastuti .badhai .